जगजीत सिंह : जिनकी गज़लें रुह तक उतरती हैं और दे जाती हैं सुकून

0
73
jagjit-singh-birthday-special
jagjit-singh-birthday-special

द लोकतंत्र / उमा पाठक : गजल सम्राट जगजीत सिंह ने अपनी आवाज के जादू से दुनियाभर के लोगों को मदहोश कर दिया। जगजीत सिंह का कॉन्सर्ट अटेंड करने के लिए भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के लोग बेकरार हुआ करते थे। जगजीत के जन्मदिन के मौके पर बता रहे हैं जगजीत सिंह की ऐसी ही 7 सुपरहिट गजलें जिन्हें सुनकर आप भी उनके दीवाने हो जाएंगे।

जगजीत सिंह की गजलें-

तेरे बारे में जब सोचा नहीं था- शहर एल्बम की इस गजल के बोल नवाज देओबंदी जी ने लिखे थे। इसका संगीत जगजीत सिंह ने दिया था साथ ही अपनी आवाज से इसे और भी दमदार बना दिया था।

जब सामने तुम आ जाते हो- दिल कहीं होश कहीं एल्बम की ये गजल आज भी सुपरहिट है। जगजीत सिंह, लता मंगेश और आशा भोसले ने इस गजल को गाया था।

तेरे आने की जब खबर महके- इस गजल में एक बार फिर से मशहूर शायर नवाज देओबंदी और जगजीत सिंह की जोड़ी ने धमाल मचा दिया।

आपको देख कर देखता रह गया- आंधियों के इरादे तो कुछ भी ना थे, ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया। इस गजल के मायने समझ में आते हैं तो जीवन प्यार की चहलकदमियों के बीच दार्शनिक नजर आता है।

सरकती जाए है रुख से नकाब- ये गजल जगजीत सिंह की सबसे मशहूर गजलों में रही है। शायर अमीर मिनाई ने इसके बोल लिखे थे।

कल चौदवीं की रात थी- इब्न-ए-इंशा द्वारा लिखी गई इस गजल की तो बात ही कुछ और है।