Mahashivratri 2020: बेलपत्र के अलावा शिव जी को चढ़ाएं ये पत्ते, होंगे सारे दुःख दर्द दूर

0
50
(Photo Credit : Google Images)
(Photo Credit : Google Images)

शिव पुराण इस बात का जिक्र में भी मिलता है कि भगवान शिव को बेलपत्र प्रिय है। भगवान शिव जी पूजा करते समय वह बेलपत्र अर्पित करके भगवान शिव को प्रसन्न करे। लेकिन शिव जी को बेल पत्तों के अलावा भी कई दूसरे पत्ते भी खूब पंसद हैं। इसलिए शिव जी को प्रसन्न करने के लिए सिर्फ बेलपत्र ही नहीं इन पत्तों का भी अर्पित करें।

भांग का पत्ता – भगवान भोलेनाथ को बेल के बाद दूसरा सबसे प्रिय है भांग का पत्ता या भांग का शर्बत। आप भोलेनाथ को ये दोनों चीजें चढ़ाएं तो शिव बड़े प्रसन्न होते हैं। इसका कारण यह है कि जब शिव जी ने हलाहल विष का पान किया था तब जहर का उपचार करने के लिए भांग के पत्तों का यूज़ किया गया था।

धतूरा का फल और पत्ता – धतूरा का फल और पत्ता औषधि के रुप में काम आता है। शिव जी को अधूरा अर्पित करने वाले को शिव जी धन-धान्य प्रदान करते हैं।

आक का फूल और पत्ता – आक का फूल और पत्ता दोनों ही भगवान शिव को प्रिय है। कहते हैं जो भक्त भगवान शिव को आक अर्पित करता है भगवान शिव उसकी मानसिक और शारीरिक कष्ट हर लेते हैं।

पीपल का पत्ता – पुराणों में उल्लेख मिलता है कि पीपल पर त्रिदेवों का वास है। पीपल के पत्तों पर भगवान शिव विराजमान होते हैं। जो भक्त शिव जी को पीपल के पत्ते अर्पित करते हैं शिव जी उन्हें शनि के प्रकोप से बचाते हैं।

दूर्वा – दूर्वा यानी घास के बारे पुराणों में बताया गया है कि इनमें अमृत बसा है। भगवान शिव और उनके पुत्र गणेश जी को दूर्वा बेहद पसंद है। भगवान शिव को दूर्वा अर्पित करने से अकाल मृत्यु का भय दूर होता है।