…तो क्या बीमारी के साथ जीना देश ने स्वीकार कर लिया, 24 घंटे में 6088 नए मरीज

0
coronavirus-positiv

द लोकतंत्र / सुदीप्त मणि त्रिपाठी : भारत में कोरोना वायरस के मामलों में अब की सबसे तेज बढ़ोतरी दर्ज की गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 6088 नए मामले सामने आए हैं। देशभर में संक्रमितो की संख्या 1 लाख 18 हजार 447 पहुंच गई है साथ ही 148 लोगों की मौत हुई है। इसमें से 66,330 एक्टिव केस हैं, जबकि अबतक कुल 3583 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 48,533 लोग ठीक हो चुके हैं। 

बड़ा सवाल यह कि लॉक डाउन में छूट कितनी सही?

जिस तरह महज 24 घंटे में कोरोना के 6088 नए मामले सामने आए हैं उससे सवाल उठना लाजिमी है कि सरकार द्वारा लॉकडाउन 4 के दौरान दी गई छूट कितनी सही है क्योंकि आंकड़ों के मुताबिक स्थिति भयावह होती जा रही है। कोरोना ने दुनिया में जितनी तबाही मचाई है उसको देखते हुए कहीं हमारी बेफिक्री हमारे लिए मुसीबत तो नहीं बन जाएगी यह सोचने की जरूरत है।

अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश कहीं हमें मुश्किल में न डाल दे

लॉकडाउन 4 तक पहुँचते पहुँचते भारत में नियमों में बहुत हद तक छूट दी जा चुकी है। ट्रेनें चल रही हैं, फ्लाइट भी 25 मई से शुरू हो जाएगी, कुछ शर्तों के साथ अधिकांश दुकाने भी खुल रही हैं। अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के उद्देश्य से उद्योग धंधो को भी शुरू किया जा चुका है।

बता दें, पिछले 24 घंटे के दौरान दुनिया भर में कोरोना वायरस के करीब एक लाख छह हजार मामले दर्ज किए गए हैं। खबरों के मुताबिक यह इस अवधि में नए मामलों की अब तक की सबसे बड़ी संख्या है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि इनमें से दो तिहाई मामले सिर्फ भारत, अमेरिका, रूस और ब्राजील में दर्ज किए गए हैं।

बुधवार को ही डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस ऐडहेनॉम गेब्रीयेसोस ने कहा था कि कोरोना वायरस का संक्रमण ढलान की ओर है, ऐसा न समझा जाए। उनका कहना था कि जैसे-जैसे अमीर और विकसित देश लॉकडाउन से उभर रहे हैं, यह संक्रमण गरीब देशों में फैल रहा है।

सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं

रेलवे द्वारा चलाई जा रही श्रमिक ट्रेनों और अन्य यात्री ट्रेनों में सोशल डिस्टेंसिंग का दावा बस कागजी ही रह गया है। विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है कि सभी ट्रेनों में मिडिल बर्थ अलॉट की जा रही है। ऐसे में एक साथ 3 बर्थ पर यात्री होने से एक मीटर का भी सोशल डिस्टेंस नहीं रखा जा रहा है। कुछ ऐसी ही स्थिति विमानों की उड़ान को लेकर भी है क्योंकि उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी कह रहे है 25 मई से चालु होने वाली हवाई उड़ानो के दौरान बीच की सीट खाली नहीं रखी जाएगी।

पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से पूरी तरह मुक्त रखने के लिए कृपया द लोकतंत्र की आर्थिक मदद करें। किसी भी तरह के स्वैच्छिक राशि को डोनेट करने हेतु बटन पर क्लिक करें –