पतंजलि ने लाँच किया दिव्य कोरोनिल टैबलेट, दावा है कि इस दवा से सौ फ़ीसद ठीक हुए कोरोना के मरीज़

0

दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ा रहे है, जहां दुनियाभर के वैज्ञानिक वायरस का इलाज खोजने में लगे है, वहीं बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ने दवा बनाने का दावा किया है।

इस आयुर्वेदिक दवा के बारे में बताने के लिए बाबा रामदेव ने हरिद्वार में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस मौके पर पतंजलि के सीईओ बालकृष्‍ण और योगगुरु बाबा रामदेव ने ‘दिव्‍य कोरोनिल टैबलेट’ के बावत हुए क्लिनिकल ट्रायल के बारे में भी बताया। आइये जानते है कोरोनिल दवा के बारे में विस्तार से :

कोरोनिल क्या है : कोरोनिल कोरोना वायरस संक्रामक के लिए पहली साक्ष्य-आधारित आयुर्वेदिक दवा है। इस दवा को पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (जयपुर) ने मिलकर बनाया है। पतंजलि के लगभग 500 वैज्ञानिकों ने कोरोनो वायरस की इस दवा को बनाने पर काम किया है।

कोरोनिल एक ऐसी दवा है जिसे एक अध्ययन के बाद तैयार किया गया है। इस दवा का परीक्षण दिल्ली, अहमदाबाद, मेरठ, और अन्य शहरों सहित पूरे भारत में कोरोना रोगियों पर किया गया था।

बाबा रामदेव ने दावा किया कि 100 लोगों पर क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल की स्टडी की गई। 3 दिन के अंदर 69 फीसदी रोगी रिकवर हो गए, यानी पॉजिटिव से निगेटिव हो गए। सात दिन के अंदर 100 फीसदी रोगी रिकवर हो गए। हमारी दवाई का सौ फीसदी रिकवरी रेट है और शून्य फीसदी डेथ रेट है।

बाबा रामदेव ने कहा कि इस दवाई को बनाने में सिर्फ देसी सामान का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें मुलैठी-काढ़ा समेत कई चीज़ों को डाला गया है। साथ ही गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासरि का भी इस्तेमाल किया गया।

कोरोनिल कैसे काम करती है : कोरोनिल किट में तीन दवाएं हैं जिनमें 2 टैबलेट के रूप में और एक तरल है। कोरोनिल शरीर की श्वसन प्रणाली पर काम करता है क्योंकि कोरोनो वायरस श्वसन प्रणाली को प्रभावित करता है जिसके कारण इसके मरीज सांस लेने की क्षमता खो देते हैं जिससे मृत्यु हो जाती है। कोरोनिल में आयुर्वेदिक तत्व शरीर की आंतरिक प्रतिरक्षा में सुधार करते हैं और बुखार, खांसी, सर्दी सहित अन्य कोरोना लक्षणों से लड़ते हैं।

कोरोना के मरीज को कोरोनिल की कितनी खुराक चाहिए : कोरोनिल में जो तीन दवाओं में एंडू ऑयल (Andu Oil) है, जिसे नाक में (3-5 बूंदों) डालना है। अन्य दो प्रकार की गोलियों में 3 गोलियां हैं जिन्हें दिन में तीन बार खाना है।

कोरोनिल दवा की कीमत : कोरोनिल या ‘कोरोनिल किट’ की कीमत 545 रुपये रखी गई है।

कहां और कब मिलेगी कोरोनिल दवा : कोरोनिल शुरू में एक सप्ताह के भीतर देश के पतंजलि स्टोरों पर उपलब्ध हो जाएगी।

कोरोनिल ऑर्डर करने के लिए ऐप : स्वामी रामदेव ने जानकारी दी है कि अगले सोमवार (29 जून) को कोरोनिल को ऑर्डर करने के लिए एक ऐप ‘ऑर्डर मी’ लॉन्च किया जाएगा।

पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से पूरी तरह मुक्त रखने के लिए कृपया द लोकतंत्र की आर्थिक मदद करें। किसी भी तरह के स्वैच्छिक राशि को डोनेट करने हेतु बटन पर क्लिक करें –